मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019 क्या है: “ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर नए जुर्माने की लिस्ट” Moter Vehicle Act 2019

मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019 क्या है:- भारत सरकार ने ट्रैफिक नियमों के पालन में हो रही लापरवाही की वजह से मोटर वेकिल एक्ट 1989 में बदलाव कर उन्हे और अधिक सख्त बना दिया है।

अब यदि कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार से ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है। उसे पहले की अपेक्षा अधिक ट्रैफिक जुर्माना देय होगा। यह जुर्माना कुछ हजार से लेकर गाड़ियों को सीज करने तक का हो सकता है।

यदि किन्हीं भी कारणों से किसी व्यक्ति के व्हीकल का चालान हो जाता है तो उसे चालान भरने के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया की सुविधा सरकार द्वारा प्रदान की गई है। परन्तु आपको नए मोटर वाहन संसोधन अधिनियम के तहत नियत किये गये नियमो के आधार पर ही चालान भरना होगा.

इस लेख के माध्यम से Moter Vehicle Act 2019 संबंधित अन्य जानकारियां प्रदान की जा रही है।

इसे भी पढ़े :- UP cast Certificate Online Registration 2023.UP जाति प्रमाण पत्र.

Moter Vehicle Act 2019 संक्षिप्त जानकारी :-

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 1 सितंबर 2019  को मोटर व्हीकल एक्ट 1989 में बदलाव किए हैं। बदलाव के पश्चात यह एक्ट 1 अक्टूबर 2020 से संपूर्ण भारत में लागू कर दिए जाएंगे

 मोटर व्हीकल  (संशोधन) अधिनियम 2019 के अनुसार- 

 यदि इंजन गाड़ी बनाने वाली कोई कंपनी मानक से कमतर  मोटर इंजन का उत्पादन  करती है तो उसे 500 करोड़ तक का जुर्माना देना हो सकता है ऐसे ही कुछ कठोर नियम मोटर  व्हीकल (संशोधन) अधिनियम 2019 में लाए गए हैं. इत्यादि जैसे कुछ कठोर नियम बनाये गये हैI

अधिनियम के कुछ प्रमुख बिंदु –

  • सड़क दुर्घटना के पीड़ितों को मुआवजा – सड़क दुर्घटना  घटित होने पर गोल्डन आवर के दौरान पीड़ित की आर्थिक सहायता सरकार के द्वारा की जाएगी यह योजना सरकार के द्वारा विकसित की जाएगी। गोल्डन आवर अर्थात  दुर्घटना में घातक चोट लगने पर व्यक्ति के लिए प्रारंभिक 1 घंटे का समय इलाज हेतु अत्यंत ही महत्वपूर्ण होता है जिसे गोल्डन आवर  कहते हैं इस दौरान इलाज मिल जाने पर दुर्घटना में मृत्यु की संभावना को बहुत हद तक टाला जा सकता है

 दुर्घटना  होने पर सरकार के द्वारा थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के अंतर्गत मुआवजे का दावा करने वालों को अंतरिम राहत देने के लिए योजना बना सकती है 

  • मोटर वाहन दुर्घटना कोष- सरकार एक  मोटर वाहन दुर्घटना  कोश बनाएगी। कोर्ट के माध्यम से सड़क मार्ग का प्रयोग करने वाले सभी व्यक्तियों को सुरक्षा बीमा कवर प्रदान किया जाएगा. इस  बीमा कवर को निम्नलिखित तरीके से प्रयोग किया जाएगा।
  •  गोल्डन आवर के दौरान

 हिट और रन मामलों में मौत होने पर  परिवार को मुआवजा

 हिट और रन मामले में  गंभीर रूप से घायल व्यक्ति के इलाज में.

 एवं सरकार द्वारा विनिर्दिष्ट व्यक्तियों को 

  • गुड  सिमेट्रीन-  गुड  सिमेट्रीन  वह व्यक्ति होता है जो कि दुर्घटना के दौरान व्यक्ति को मेडिकल अथवा नॉन मेडिकल सहायता प्रदान करता है।

 गुड समैरीटन  को दुर्घटना पीड़ित व्यक्ति की सहायता के लिए पुरस्कार प्रदान करना।

 दुर्घटना में सहायता के दौरान यदि पीड़ित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो गुड समैरीटन व्यक्ति को कानूनी  भागदौड़ से मुक्ति.

  •  वाहनों को रिकॉल करना –

यदि ग्राहक के द्वारा खरीदा हुआ वाहन सरकार के मानक के अधीन नहीं आता है तो सरकार द्वारा मैन्युफैक्चर को वाहन को वापस लेने का आदेश दिया सकता है ऐसी स्थिति में मैन्युफैक्चर को ग्राहक को उस वाहन  की पूरी कीमत लौटाने होगी अथवा उसे बेहतर विशेषताओं वाले वाहन से बदलना होगा।

 नए अधिनियम के मुताबिक केंद्र सरकार राज्य सरकारों की सहायता से एवं उनसे  सहायता लेकर उस  राज्य के लिए  राष्ट्रीय परिवहन नीति ला सकती है।

  • केंद्र सरकार के द्वारा सड़क सुरक्षा बोर्ड बनाया जाएगा

मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019 जुर्माना- 

ट्रैफिक नियम तोड़ने पर नए जुर्माने की लिस्ट निम्नलिखित प्रकार से हैंI मोटर वाहन संसोस्धन अधिनियम के मुताबिक वहां जुर्माने को बढ़ा दिया गया है जिसकी जानकरी नीचे लिस्ट में दी गयी है.

यातायात नियमों का उल्लंघनपुराना चालान/ जुर्मानानया चालान/ फाइन
सामान्य100 रुपये500 रुपये
सड़क विनियमन उल्लंघन के नियम100 रुपये500 रुपये
यातायात अधिकारीयों के आदेशों की अवहेलना करना500 रुपये2,000 रुपये
बिना लाइसेंस के वाहनों का अनाधिकृत उपयोग करना1,000 रुपये5,000 रुपये
बिना ड्राइविंग लाइसेंस के वाहन चलाना500 रुपये5,000 रुपये
योग्य नहीं होने के बावजूद ड्राइविंग करना500 रुपये10,000 रुपये
सामान्य से अधिक वाहन परकुछ नहीं5,000 रुपये
अधिक गति होने पर400 रुपये1,000 रुपये
खतरनाक ड्राइविंग होने पर1,000 रुपये5,000 रुपये तक
शराब पी कर गाड़ी चलाने पर2,000 रुपये10,000 रुपये
तेजी / रेसिंग करने पर500 रुपये5,000 रुपये
बिना परमिट के वाहन चलाने पर5,000 रुपये तक10,000 रुपये तक
एग्रेगेटर (लाइसेंस शर्तों का उल्लंघन)कुछ नहीं25,000 से 1 लाख रुपये तक
ओवरलोडिंग होने पर2,000 रुपये और प्रति अतिरिक्त टन पर 1,000 रुपये20,000 रुपये और प्रति अतिरिक्त टन पर 2,000 रुपये
यात्रियों की ओवरलोडिंग होने परकुछ नहीं1,000 रुपये प्रति अतिरिक्त यात्री
सीट बेल्ट न लगाने पर100 रुपये1,000 रुपये
2 पहिला वाहनों पर ओवरलोडिंग होने पर100 रुपये2,000 रुपये और 3 महीने के लिए लाइसेंस की अयोग्यता
हेल्मेट्स नहीं लगाने पर100 रुपये1,000 रुपये और 3 महीने के लिए लाइसेंस की अयोग्यता
इमरजेंसी वाहनों के लिए रास्ता उपलब्ध नहीं कराने परकुछ नहीं1,000 रुपये
बीमा के बिना ड्राइविंग करने पर1,000 रुपये2,000 रुपये
किशोरों द्वारा किया गया अपराध परकुछ नहीं1. अभिभावक या मालिक को दोषी माना जाएगा।
2. 3 साल की कैद के साथ 25,000 रुपये
3. किशोरी पर JJ अधिनियम के तहत
मुकदमा चलाया जाएगा।
4. वाहन का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया जाएगा।
दस्तावेजों को लगाने के लिए यातायात अधिकारीयों का पॉवरकुछ नहींड्राइविंग लाइसेंस का निलंबन
यातायात अधिकारीयों को लागू करने से होने वाले अपराधकुछ नहींसंबंधित सेक्शन के तहत 2 बार जुर्माना
मोटर वाहन संशोधन अधिनियम

 सारांश- मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019

 आर्टिकल की सहायता से आपको मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019 के बारे में विस्तार पूर्वक समझाया गया है।  जिन व्यक्तियों को मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019 से सम्बन्धित जानकारी चाहिये वे पूरे आर्टिकल को ध्यान पूर्वक पढ़े.

 आर्टिकल संबंधित किसी भी प्रकार के सुझाव एवं जानकारी के लिए नीचे कमेंट  बॉक्स में कमेंट करें। धन्यवाद।

FAQ: मोटर वाहन संशोधन अधिनियम 2019 से पूछे जाने वाले सवाल

  • नया मोटर व्हीकल एक्ट 2019 क्या है?

नया मोटर व्हीकल एक्ट 2019 मोटर व्हीकल एक्ट 1989 एक्ट का संशोधन हैI

  • मोटर व्हीकल एक्ट 2019 की धारा 177 क्या है ?

मोटर व्हीकल एक्ट 2019 की धारा 177 के अंतर्गत सामान्य जुर्माने की दर को बढ़ा दिया गया है.

Leave a Comment